मिलना

उस तरह
नहीं’ मिलना
जिस तरह
समुद्र से
मिलती है
नदी
तुम
मिलना
उस तरह
जिस तरह
दरवाजे के
दो पट
मिलते हैं
परस्पर

गंगाधर

Leave a Reply