!! गम का साज्हेदार !!

अनुज तिवारी द्वारा लिखा ये शेर “गम का साझेदार”

खुशियों को रोशन करेंगे , जला के दिल के दीपों को !
मधुर सुहाना स्वर देगें , अपने जीवन गीतों को !
इत्तफाक से कोइ अडचन और मुशीवत आये ,
बाट लेंगे आधा-आधा , हर गम हर तकलीफों को !!

सात जन्म की पट्टेदारी , सन्ग तेरे सौवार लू !
गम का साझेदार बना मुझे , हर गम मै सन्घार लू !
गर काल तुझे लेने आये , मौत खडी हो द्वार पे ,
सीना अडा के सामने , मौत को स्वीकार लू !!

(Anuj Tiwari)

Leave a Reply