देश की मिट्टी हमारी

देश की मिट्टी हमारी बुलंदियाँ चढने लगी
पर इधर भी देखिए मुफलिसियाँ बढने लगी

सच है कि हम खुदमुखतार हैं नहीं अब भी
अखबार क्यों तरक्कियों की अफवाहें गढने लगी

जब भी कुछ आवाम ने अपनी हक माँग ली
इन नेताओं की भ्रष्ट सूरतें क्यों बिगड़ने लगी

गूफ्तगू होने लगी खामियों पर अंजुमन में
नुक्स सारी पार्टियाँ एक दूसरे पर मँढने लगीं

कुछ देर पहले जिन लोगों ने कैरोसीन डाली थी
अब देखो बुझाने आ गए जब धुँआ उड़ने लगी

Leave a Reply