चमचागीरी-57

हम दुर्गा माँ की और चमचे गणेश जी की सवारी रहे हैं, हम चमचों पे हमेशा भारी रहे हैं;
किन्तु हमेशा ही चमचों के हमें गिराने के प्रयास जारी रहे हैं.

Leave a Reply