आना अभी बाकी है…..

    1. एक छोटी सी याद हमारी,
      चेहरे को फूल सा खिला देंगी !
      छेड़ो दिल के तार के
      चेहरे पे रुआब आना अभी बाकी है !!

      यादो में बीत न जाए कही,
      बाकी बचे चंद लम्हे जिंदगी के !
      लौट आओ मेरे पास
      के मरने में वक़्त अभी बाकी है !!

      सबको चले जाना है
      छोड़ के महफ़िल एक दिन इस जहां से !
      कही टूट न जाए
      ये सांसो की डोर अभी बाकी है !!

      तोड़ दो बंधन यंहा
      जमाने में सब झूठ और दिखावे के !
      ना बैठो यूँ उदास
      के जिंदगी का मिलन अभी बाकी है !!

      करेंगे गुफ्तगू तुम संग
      किसी रोज़ बैठकर चाँद रात में !
      उस हसीन ख्वाब को
      हकीकत में बदलना अभी बाकी है !!

      !
      !
      !
      ( डी. के निवातियाँ )

Leave a Reply