दिल उदास है बहोत

दिल उदास है बहोत कपि पैगाम ही लिख दो
तुम अपना नाम ना लिखो गुमनाम ही लिख दो
मेरी किस्मत में गम-ए-तन्हाई है लेकिन
तमाम उम्र ना लिखो, मगर एक शाम ही लिख दो

जरुरी नहीं के मिल जाये सुकून हर किसी को
सर-ए-बजम ना आओ, मगर बेनाम ही लिख दो
ये जनता हु के उम्र भर तनहा मुझको रहना है
मगर पल दो पल घडी दो घडी मेरा नाम ही लिख दो

चलो हम मान लेते है के सजा के हक़दार है हम
कोई इनाम ना लिखो कोई इल्जाम ही लिख दो

One Response

  1. raj 05/05/2015

Leave a Reply