एक एहसास

एक एहसास कि तुम हो दिल के पास
ज़िन्दगी बसर करने के लिए काफ़ी है

एक एहसास कि मेरी एक आवाज़ पर
तुम दौड़े चले आओगे
तनहा मंजिल तक
सफ़र करने के लिए काफ़ी है

एक एहसास कि तुम हो दिल के पास
ज़िन्दगी बसर करने के लिए काफ़ी है

एक एहसास कि मेरी आँखों से भी
तुम दिल का हाल समझ जाओगे
दिल को ख़ामोशी का
समंदर करने के लिए काफ़ी है

एक एहसास कि तुम हो दिल के पास
ज़िन्दगी बसर करने के लिए काफ़ी है

एक एहसास कि आपकी दिल की
गहराईयों में शायद हम बसते हैं
आप का इंतजार
सारी उम्र करने के लिए काफ़ी है

एक एहसास कि तुम हो दिल के पास
ज़िन्दगी बसर करने के लिए काफ़ी है

Leave a Reply