कोई अपना

एक इन्शान खुद
वक़्त से कैसे टूटता है
गिरकर अर्श से
फर्श पर कैसे फूटता है

चालें चलता है मुकद्दर
मुखातिब सुख होता नहीं
कोई पीकर दर्दे जिगर
आँख से कभी रोता नहीं

मन बहलाता कुत्तों संग कोई
कहीं लख्तेजिगर होता नहीं
मर जाता फूथपाथ कोई
कोई भी उनपर रोता नहीं

पहचान की मारामारी ,उफ़
रात रातभर सोता नहीं
बड़े बड़े खाशमखाश यहाँ
पर कोई अपना होता नहीं

Leave a Reply