चमचागीरी-45

चमचों की महिमा अनंत है;
चमचागिरी का न आदि है और न ही अंत है.

Leave a Reply