चमचागीरी-43

न ईमानदारी का धनुष और न ही मेहनत की कमान;
कलयुग में केवल चमचागीरी ही करती है कल्याण.

Leave a Reply