चमचागीरी-४२

हे भगवान यह अच्छा काम क्यों नहीं हुआ;
भूकम्प आया फिर भी एक चमचा नहीं मरा.

Leave a Reply