चमचागीरी-36

कितनी सदियाँ बीत जाएँगी तुझे समझाने में;
हर जगह चमचे ही लगे हैं तेरी लुटिया डुबाने में

Leave a Reply