चमचागीरी-35

जब कभी बेवजह खिचाई होती है;
वह आग चमचों की लगाई होती है.

Leave a Reply