चमचागीरी-32

जहाँ लोग सिर्फ अपने काम की जिद पे अड़े हों;
चमचों से कह दो अलग से हट कर खड़े हों.

Leave a Reply