कोकिला

कोकिला सुनाओ मधुर सा गान ,
छेड़ो कोई राग , कोई मीठी सी तान ,
भोर सुहानी संगीत से भर रही ,
बसंती बयार लू बन रही ,
आम के फल रसीले हुए ,
सुनकर तुम्हारी सुरीली तान ,
कोकिला सुनाओ मधुर सा गान .
चंपा ,चमेली फूलों से भर गए ,
मोगरा मतवाला महमहा उठा ,
सूरजमुखी सर उठाने लगे ,
देखने वनउपवन की शान ,
कोकिला सुनाओ मधुर सा गान .
पंछी जगत के प्यारे ,अलबेले ,
शुक नखरीले…मोर छबीले ,
पर कूज तुम्हारी अद्भुत है सखी ,
तुम सचमुच धरती की आन .
कोकिला सुनाओ मधुर सा गान .

– डॉ दीपिका शर्मा

4 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/04/2015
  2. vaibhavk dubey vaibhavk dubey 25/04/2015
  3. नन्द्किशोर नन्द्किशोर 09/05/2015
  4. Dr Deepika Sharma Dr Deepika Sharma 19/02/2016

Leave a Reply