ताना-बाना

फूल खिले
झर गये
कॉटे मिले
बिखर गये
सुख आया
चला गया
दु:ख आया
नहीं रहा
मिलना और बिछुड़ जाना
यही है जीवन का ताना-बाना
नियम बस एक ही है
यहॉ जो आज है
वह कल नहीं है…

Leave a Reply