तुम्हारा आना

तुम्हारा आना

वैसे ही था तुम्हारा आना
जैसे पहाड़ों पर
बारिस का.

उस गमक का आना
जो आती है किसान के घर
खेत से फसल आने पर

तुम्हारा आना
उस मौसम का आना था
जिसके आने से
मन की तलहटी में
उगते हैं मनुष्यता के
फूल।

तुम्हारा आना
आना था उस साहस का
जिससे, लड़ सका मैं
उस व्यवस्था के विरुद्ध
जो हमारे प्यार को
बनाना चाहती है
बंदूक।
गंगाधर ढोके
शहडोल

Leave a Reply