साथ

बचपन में होता है माता पिता का साथ,
स्कूल में बच्चे बन जाते है साथी,
बढती उम्र में, साथ बदल जाता है,
अरमान मनचल जाता है,
वक़्त के साथ यह,
साथ क्यूँ बदल जाता है,
क्यूँ ये साथ अखरने लगता है,
क्या यह साथ सिर्फ,
कुछ समय के लिए ही होता है,
पर अपने माता पिता को देखकर,
इस साथ पर फिर विश्वास हो जाता है |

भारती शिवानी

3 Comments

  1. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 24/04/2015
    • भारती शिवानी 04/05/2015
  2. भारती शिवानी 04/05/2015

Leave a Reply