चमचागीरी-28

हम को फुर्सत नहीं मिलती अपना गम सुनाने को;
कियूं कि चमचे लगे रहते हैं अपने नंबर बनाने को.

Leave a Reply