चमचागीरी-27

न आप ने समझा है न हम ने यह जाना है ;
चमचों के ही कदमों में झुकता यह ज़माना है.

Leave a Reply