चमचागीरी -24

न गरीबी ने मारा है न ही मंहगाई मार पाई है;
हिन्दुस्तानिओं को तो चमचागिरी ने मारा है जो सब जगह छाई है.

Leave a Reply