ऐ मेरी ज़िन्दगी

क्यों पहेलियों की तरह घुमा रही है
ऐ मेरी ज़िन्दगी
क्यों दर्द देकर मुस्कुरा रही है
ऐ मेरी ज़िन्दगी
सही रह चलने से क्यों भटका रही है
ऐ मेरी ज़िन्दगी
क्यों पथ-पथ पर परीछा ले रही है
ऐ मेरी ज़िन्दगी
क्यों अच्छे खासे इंसान को
हैवान बना रही है
ऐ मेरी ज़िन्दगी

“शरद भारद्वाज”

2 Comments

  1. कपिल जैन कपिल जैन 12/09/2016
    • Sharad Bhardwaj Sharad bhardwaj 13/09/2016

Leave a Reply