चमचागिरी-12

जब भी कभी बॉस के कान खुले और आँखें बंद होते है;
चमचों के मुंह खुले और हौसले बुलंद होते हैं.

Leave a Reply