अर्धांगिनी

जीवन में मुश्किलें साथ थी l
बस एक उम्मीद की आस थी ll
फिर भी सोच कर घबरा रहा था l
क्या होगा सोचता चला जा रहा था ll

चिंता दिल और दिमाग पर छा गई l
तभी वो मेरे सामने आ गयी ll
उन पलों में उसने ही साथ निभाया l
मेरे कदम के साथ कदम मिलाया ll

उसने ही मुझमें विश्वास जगाया l
हर बुराई से मुझे लड़ना सिखाया ll
जब ये दुनिया साथ नहीं निभाती है l
तब वो ही मेरा सहारा बन जाती है ll

उसने ही हालातो से लड़ना सिखाया l
उसने ही छिपे डर को बाहर भगाया ll
चिंता भी आने से अब कतराने लगी l
या कहुँ जैसे वो अब,मुँह छिपाने लगी ll

सातों वचनों को उसने बखूबी निभाया l
हर सुख दुःख में मेरा साथ निभाया ll
जो उम्र के हर पड़ाव पर साथ निभाती है l
ऐसी नारी हमारी अर्धांगिनी कहलाती है ll

7 Comments

  1. निशान्त पन्त "निशु" निशान्त पन्त "निशु" 18/04/2015
  2. निशान्त पन्त "निशु" निशान्त पन्त "निशु" 18/04/2015
  3. Sujata Gupta 18/04/2015
    • Rajeev Gupta Rajeev Gupta 20/04/2015
  4. rakesh kumar rakesh kumar 19/04/2015
    • Rajeev Gupta Rajeev Gupta 20/04/2015
  5. aditya 24/04/2015

Leave a Reply