सबका पेट भरता हूँ

मै हूँ किसान देश का
हाशिये से कहानी लिखता हूँ
आजिज मै कमर झुकाये
रोज खेतों में मिलता हूँ

अफ़सुर्दा भूख छिपाए
जीने की कोशिश की करता हूँ
भरता हूँ भण्डार बहुत, खुद
फांको से पेट भरता हूँ

खबर आलिम की देखकर
उम्मीद दिल में आती है
बिजली कहीं पर भी गिरे
मेरा ही घर जलाती है

आदिल नहीं लगता यहाँ
रहनुमा मेरा मुझे
अमलन कितना भी कमाऊं
गुजारा ही नहीं चलता है

जिन्दगियां मै देने वाला
रोज चौराहों पर मरता हूँ
अन्नदाता हूँ देश का
सबका पेट भरता हूँ

शब्द -१ अफ़सुर्दा =उदाश 2आदिल=नेक

Leave a Reply