मेरा बचपन मुझे लौटा दो |

खो गया हु इस भीड़ में कोई घर का पता बता दो,
दुनिया की चकाचौंध में कोई अपनों से मिला दो,
सूरज-चाँद धरती-अम्बर से यही विनती हु करता,
मेरा बचपन मुझे लौटा दो, मेरा बचपन मुझे लौटा दो |

Leave a Reply