बस ज़रा प्यास से

किसी दिन
जिंदगी का लैपटाॅप यूं ही खुला रह गया
और मैं चला गया
दूर कहीं किसी भूगोल में
सोचो कैसे खोल पाओगे मेरी जिंदगी का लैपटाॅप
सारा का सारा डेटा
तुम्हारे सामने से गायब हो जाएगा,
कहां से लाओगे मेरी जिंदगी का डेटा
कहां खाया ग़म,
कहां किसने दी चोट
कहां निकली आह
कहां निकले आंसू,
सब के सब खजाने मेरे लगाए पासवर्ड में कैद रहेंगे।
सोचता हूं
जाने से पहले
शेयर कर दूं किसी न किसी से
सारे पासवर्ड
ताकि जब चला जाउं
किसी दिन,
बिन बताए
अंधेरी रात भोर बिभनसारे
तो तुम परेशां मत होना।
जिंदगी के लैपटाॅप का पासवर्ड
किसी देकर जाउं
कौन संभाल कर रखेगा
सुरक्षित
मगर कितना सुरक्षित
किससे सुरक्षा बंधु
भाई से या बहन से
दोस्त से या संगिनी से
जिदगी लैपटाॅप ही होती तो कोई बात थी,
यह तो बिन पासवर्ड के भी खुल जाती है
बस ज़रा प्यास से पुचकार लो
बुला लो अपना समझ कर।

Leave a Reply