चमचागिरी-५

काश दुनिया के सारे चमचे मर जाते, हमारे देश के हालात तो सुधर जाते :
जो थोड़े से चमचे बच जाते, कुछ इधर कुछ उधर दौड़ा दिए जाते.

Leave a Reply