पहलू में उनके

ग़ज़ल

क्या कहूँ पहलू में उनके क्या किया मैं रात भर,
ज़ुल्फ़ की इक लट में ही उलझा रहा मैं रात भर |

जिसके हर इक अंग पर कुछ ख़ास है कारीगरी,
उस तराशे हुस्न को समझा किया मैं रात भर |

नैनों में उस नाज़नीं के बसता है आब-ए-हयात,
रफ़्ता–रफ़्ता ज़िंदगी पीता रहा मैं रात भर |

चाँद भी जिस आब को छूने को है बेताब सा,
दूधिया उस ताल में डूबा रहा मैं रात भर |

क्या पता किसने सुनी,तौबा किया किसने ‘सहर’
ये कहानी वस्ल की कहता रहा मैं रात भर |

Leave a Reply