यादें

बीते लम्हों के झुरमुट से
झांकती यादें
मासूम निगाहों से
तकती हैं
आज को
मगर आज
अपनी रफ़्तार से
बढ़ जाता है
आगे …
छोड़ जाता है
फिर से
कुछ यादें
जो बन जाती हैं
हिस्सा
बीते लम्हों के
झुरमुट में
ठहरी हुई यादों का

rachana sharma

11 Comments

  1. रकमिश सुल्तानपुरी राम केश मिश्र 10/04/2015
    • Rachana sharma rachana 13/04/2015
  2. sandeep 10/04/2015
    • Rachana sharma rachana 13/04/2015
  3. Anupam S Shlok Anupam S Shlok 10/04/2015
    • Rachana sharma rachana 13/04/2015
  4. Sharad Bhardwaj Sharad Bhardwaj 14/04/2015
  5. आमिताभ 'आलेख' आमिताभ 24/04/2015
  6. DR. GANGADHAR DHOKE 02/05/2015
  7. Gurpreet Singh 19/12/2015
  8. C.M. Sharma babucm 26/04/2016

Leave a Reply