छोड़ देते है

कश्मकश ऐसी निगलने को मुझे
बिसात पर अपनी चलने को मुझे
दुआएं देते हैं और छोड़ देते है
रेगिस्तान में खिलने को मुझे

आते तो हैं लोग मिलने को मुझे
मुस्कुराहट से अपनी छलने को मुझे
कहते हैं शमां हूँ जिंदगी की उनकी
छोड़ देते है दरवाजों पर पिघलने को मुझे

Leave a Reply