कैक्टस

कैक्टस बड़े हो रहे हैं
विकसित हो रही हैं नई-नई प्रजातियाँ
अच्छे-अच्छे दिमाग़ लगे हैं
कैक्टस उगाने में

हम बाहर से भी मँगाते हैं कैक्टस
हमने बिचैलिए लगा रक्खे हैं
बिछता जा रहा है लगातार
कैक्टसों का जाल
घरों और गलियों में
सड़कों और चौबारों पर

दिन दूर नहीं जब हम
तुलसी की जगह कैक्टस रोपेंगे
जल्द ही आ जाएँगे
नुकीले कैक्टसों की गिरफ़्त में
स्कूल, दफ़्तर, बाज़ार
कचहरी और मंत्रालय

बहुत मुस्तैद हैं
कैक्टस उगाने वाले

Leave a Reply