धुंआ सा है!!

आज तो इस आसमान को किसी ने
ज़रा क्या छुआ सा है
इसके ऊँचे दंभ का साम्राज्य
अब रुआंसा है
तभी तो ज़रा सामने देखो
क्षितिज पर कुछ धुंआ सा है ।

बिजली का कड़कना जयी के लिए
मानो दुआ सा है
कह रही है आसमान … तू अब झुकेगा
तू तो ख़त्म हुआ सा है
तभी तो ज़रा सामने देखो
क्षितिज पर कुछ धुंआ सा है । ।

One Response

  1. Anupam S Shlok Anupam S Shlok 10/04/2015

Leave a Reply