बेटी बनी मै ( हाइकु )

      बेटी बनी मै
      मेरा कसूर क्या था
      कोख मे मारा !!
      ************************
      अबला सही
      तेरी नौका की बनी
      मै पतवार !!
      ************************
      मुझ से तेरा
      वंश चलेगा होगा
      रोशन नाम !!
      ************************
      जग मुझसे
      पर दुश्मन जग
      मुझसे हुआ !!
      ************************
      सब लुटाती
      जीवन भर पाती
      मैं निरादर !!
      ************************
      बेरहम लोक
      किससे कहु व्यथा
      मेरे घट की !!
      ************************
      ठहर जरा
      वक़्त बदलने दे
      जान जाओगे !!
      ************************
      एक दिन मै
      चमकूँगी नभ में
      होगा आभास !!
      ************************
      !
      !
      !
      डी. के निवातियाँ ____!!
      ************************
      ************************

Leave a Reply