वही लापता है जिसे था पता

वही लापता है जिसे था पता
बताता भी कोई नहीं रास्ता

नहीं अपने घर का मुझे कुछ पता
अगर तुझको मालूम है तो बता

बदन पे न था मेरे अच्छा लिबास
मुझे शह्र में कोई क्यों पूछता

सुनाते हो क्यों मुझको इंजील तुम
मुझे इब्ने-मरियम का दे दो पता

हैं मजबूर हालात से “चाँद” सब
न तेरी ख़ता है न मेरी ख़ता

Leave a Reply