तुम्हे देख के

क्या बताऐ क्या होता है तुम्हे देख के
नींद उड़ती है चैन खोता है तुम्हे देख के

तुम्हारी आँखों का जादू हमको मदहोश करता है
धड़कन चलती है पर दिल खोता है तुम्हे देख के

क्या बताऐ क्या होता है तुम्हे देख के

नज़रे मिलाने का भी तो हम में हौसला नही
फिर भी क्यों ये दिल इतने सपने सजोता है तुम्हे देख के

क्या बताऐ क्या होता है तुम्हे देख के

शायद हाले दिल हम कभी न तुमसे कह पाये
आँखों से ही पढ़ लेना की क्या होता है तुम्हे देख के

क्या बताऐ क्या होता है तुम्हे देख के
नींद उड़ती है चैन खोता है तुम्हे देख के

Leave a Reply