याद आ गई।

जब जमीं को भिगोती हुई बरसात याद आ गई।
तेरे पहलू में थी लिपटी वो रात याद आ गई।

बूंदों की छमछम में तेरे पायल की रुनझुन सुनी
आँखों ने आँखों से कह दी वो बात याद आ गई।

प्यार को खेल समझा नहीं,प्यार में ही मिट गए।
पर वक़्त की शह ने दी जो वो मात याद आ गई।

जी रहा हूँ इससे ज्यादा और क्या मैं शिकवा करूँ।
तेरी हंसी के बदले मिली दर्द की सौगात याद आ गई।

आज जब एक और दिल को देखा ठोकरें खाते हुए।
तब तुमसे हुई वो आखिरी मुलाक़ात याद आ गई।
वैभव”विशेष”

4 Comments

  1. sanjeevssj sanjeevssj 16/03/2015
  2. vaibhavk dubey vaibhavk dubey 16/03/2015
  3. अरुण अग्रवाल अरुण जी अग्रवाल 18/03/2015
  4. vaibhavk dubey वैभव दुबे 18/03/2015

Leave a Reply