तेरे पास आने को ।।गजल।।

न आई जवाब तेरी, लिखा खत कई बार तेरे पास आने को ।
दोस्तों से करते है तेरी बाते, तड़पता रहा तेरे पास आने को ।।

तुझे आते- जाते देख राहों में, धड़कता रहा दिल तेरे पास आने को ।
सावन रात में जलता रहा, दिल मचलता रहा तेरे पास आने को।।

जमाने की न किये परवाह, बदनाम होता रहा तेरे पास आने को ।
तू इक बार हाँ कह दे,कांटे से कर लेंगे दोस्ती तेरे पास आने को ।।

दूर से कब तक देखे, जी चाहता है तेरे पास आने को ।
हर रोज ढूंढ़ते है नई बहाने, सच में तेरे पास आने को ।।

2 Comments

    • Dushyant Patel 14/03/2015

Leave a Reply