तुम्हारी यादें

बर्षों बाद मिलें हम संजोग है यह
धीमांसा याद हो गयी ताजा वह |

सुनसान रास्तें याद दिलाते तुम्हें
गुलजार लम्हें साथ रहे थे तुमसे |

वक्त कम पड़ती जब हम मिलती
सपनें में भी बहाने ढूंढनें लगती |

बिछुड़नेकी दर्द होती कितनी गहरी
चाहत हमारी सदा साथ निभानीकी |

तुम्हारी आवाज गीत बनी गूंजती
तुम्हारी चाल नाच बनती भुलाती |

१२/०३/२०१५

Leave a Reply