आज़माए को आजमाएँ क्यों

हम उन्हें फिर गले लगाएँ क्यों
आज़माए को आजमाएँ क्यों

जब यह मालूम है कि डस लेगा
साँप को दूध फिर पिलाएँ क्यों

जब कोई राबता नहीं रखना
उनके फिर आस -पास जाएँ क्यों

हो गया था मुग़ालता इक दिन
बार -बार अब फ़रेब खाएँ क्यों

जब के उनसे दुआ- सलाम नहीं
मेरी ग़ज़लें वो गुनगुनाएँ क्यों

“चाँद” तारों से वास्ता है जब
हम अँधेरों को मुँह लगाएँ क्यों

Leave a Reply