ये आज की शाम

बडी बेचैन
और उदास सी है
ये आज की शाम
कोहरे की चादर ओढे
आसमां से आंसू
ढलकाती सी
न जाने क्या है
इसके अंतस की पीडा
बिजलियां सी कौंध जाती है
इसके सीने में
बीते दिनों की याद की
जब आफताब को लेकर आगोश में
खो जाती थी रजनी की गोद में
पर आज ये सफेद चादर
जैसे अपनी ही सींवन को उधेड
रही है
ढूंढ रही है वो सपने
वो यादें वो वादे
वो सारे इंतजाम
लेकर दिल की हसरतें तमाम
ये आज की शाम