वक्त पर कविता

है कौन जो विकल वेदना के पतझड़ को
मधुमास देता
विखर गये हों पतझड़ के पत्तों के मानिंद
सपने जीवन के जिसके
उस विटप को कौन फिर
जीने की नई आस देता
काल ही वह चक्र है
जो एक पल के लिए भी
रुक नहीं सकता कभी
छल कपट के बल पर जो
झुक नहीं सकता कभी
फिर क्यों देखते हैं हम सभी
वक्त के उस रूप को
जो छीन लेता सुख चैन अपने
क्रूर हाथों से कभी
दुःख की जब अनुभूति होती
दृगों से जब अंश्रु बहते
वक़्त से ही हमारे
गहन दुखों के घाव भरते
आज जो रो रहा है
वक़्त पल मैं उसे भी हंसा देता
दुखों के उन छणों को
सहज गति से भुला देता
पहचानता है जो गति वक़्त की
पहचानता है वक़्त उसको
दुखों की आंधियों में भी
भव सिन्धु से भी पार करता वक़्त उसको
ओमप्रकाश प्रकाश चमोला
अध्यापक

One Response

  1. Sukhmangal Singh sukhmangal singh 01/07/2017

Leave a Reply