।।गजल।।प्यार की ख्याहिस न थी।।

।।गजल।।प्यार की ख्वाहिस न थी।।

ऐ दोस्त मुझे तेरे प्यार की ख्वाहिस न थी ।।
ये तेरा ही कहर था मेरी आजमाइस न थी ।।1।।

तब तुम तोड़कर दोस्ती भी चले गये मेरी ।।
जब तुमसे दूर रहने की भी गुंजाइस न थी ।।2।।

फर्क तो पड़ता ही है हालात बदल जाने से।।
पर तेरे बदल जाने की कोई फरमाइस न थी ।। 3।।

कल ही लौट कर चला आया तेरे शहर से मैं ।।
तेरी तस्वीर न थी अदाओ की नुमाइस न थी ।।4 ।।

बस दिल जीत लिया था तेरा रूठना मनाना ।।
वरना इस दिल की कोई पैमाइस न थी ।।5।।

******

Leave a Reply