मुक्तक

बद नामियों का दौर यहां यूहीं चला है
कोई आ जाये कुसी पे सबने ही छला है
कभी धम कभी जाति कभी शेतर के बल पे
सबने हमारी छाती पर यहां मूंग दला है