धागे

धागे
यूं तो कच्चे होते है
पर
सीं देते है दिलों की दूरियां
लगा देते है पैबन्द
फटि जहां से मानवता
और ढक देते है समाज की विदूपताओं को
किसी कलाई पर बंधकर
क्योंकि धागे
हिन्दू और मुसलमां नहीं होते
मजहबी और जिहादी नहिं होते
धागे है सिफ वादा किसी हूमायू का कमावती को
धागे है इन्तजार
आंखो का
जिनकी कलाई खो गई
बर्फिली घाटी में
आओ सहेज ले इन धागो को
और बांध ले इऩसे दिल
रंग जायें इनके रंग आज के दिन .