तुम्हारा आना

तुम्हारा आना, आकर
मेरी ज़िन्दगी के केनवास पर
खिंची आड़ी-तिरछी
लकीरों को जोड़ना
सलीके से,

भरना उनमें रंग
जिससे बनी भी ख़ूबसूरत-सी
तस्वीर, तस्वीर जिसकी
शक्ल बिल्कुल मेरी-सी है

और वो रंग तुम्हारे मैंने
भर लिए हैं, अपनी माँग में ।

Leave a Reply