एक तुझमें समाया माँ

नींद तेरी रातों की
लौटा भी ना पाया माँ
तुमने अपनी गोद में
जाने कब तक सुलाया माँ

मैं लिपटा रहता हूँ
उलझनों में दुनिया की
भूल गया कब तक तूने
हाथों में झुलाया माँ

नसीब की दुहाई देता हूँ
मैं दिन रात फूटने की
बना कर हिस्सा अपना
मेरा जहां बनाया माँ

निर्लोभ पोषित किया
रोम रोम बनाया माँ
कहानी सुनाकर परियों की
सपनो को मेरे सजाया माँ

तुम दाता हो ,धात्री हो
निर्मल ,तुम उज्ज्वला
नूर इस ब्रम्हांड का
एक तुझमें समाया माँ

Leave a Reply