टूटे हुए सपने से

टूटे हुए सपने से
खुली, आज सुबह
फिर आँख
सपना, आज फिर
चुभता रहा, दिन-भर ।

Leave a Reply