चप्पल को बीबी का प्यार कहिये

१३/०६/९५
सहूलियत क्या है बिगाड़ कहिये।
जेब खर्च क्या है पगार कहिये।
बाप हो गये बुरा क्या बेटे।
स्वतन्त्र्ता का अधिकार कहिये।
जुनून औरत में मर्द से बढ़।
कि घर में इनकी ही सरकार कहिये।
हुक्म बजाया तो रोटी मिलेगी।
चप्पल को बीबी का प्यार कहिये।
बच्चों को डाँटा बहुत बुरा है।
बीबी को इनका सालार कहिये।
दूध की मक्खी हो साहब सदन में।
चुप जो रहे खुद को खैरदार कहिये।
परिवार अब खुदगर्जों का जमघट।
बेशर्म को ही समझदार कहिये।
“मैं” “तुम” ने इतना बखेड़ा किया है।
कि “हम” को न “हम” का तरफदार कहिये।
13/06/95
sahooliyat kyaa hai bigaaDx kahiye|
jeb kharc kyaa hai pagaar kahiye|
baap ho gaye buraa kyaa beTe|
swatantrtaa kaa adhikaar kahiye|
junoon aurat meM mard se baDhx|
ki ghar meM inakI hI sarakaar kahiye|
hukm bajaayaa to roTI milegI|
cappl ko bIbI kaa pyaar kahiye|
baccoM ko Daa~MTaa bahut buraa hai|
bIbI ko inakaa saalaar kahiye|
doodh kI makkhI ho saahab sadan meM|
cup jo rahe khud ko khairadaar kahiye|
parivaar ab khudagarjoM kaa jamaghaT|
besharm ko hI samajhadaar kahiye|
“maiM” “tum” ne itanaa bakheDxaa kiyaa hai|
ki “ham” ko na “ham” kaa taraphadaar kahiye|

Leave a Reply