तकिये से बातें करना !

तकिये से बातें करना,
तकिये को कुछ कह कर सोना,
तुमको क्या बचपन लगता है ?
तकिये से लड़ना झगड़ना,
तकिये को आँसू से धोना,
तुमको क्या बचपन लगता है ?

बात तुम उससे कर के देखो,
कुछ क़समें डालो,
कुछ वायदे उससे ले कर देखो !

सोने से हर रात मैं पहले,
तकिये से बतियाती हूँ !
दिन भर के गुज़रे क़िस्से ,
बिस्तर पर दोहराती हूँ !
दिल की बातें , दिल से कहना
कितना अपनापन लगता है !

तकिये से बातें करना
सच, मुझको तो जीवन लगता है

Leave a Reply